रविवार, 23 अक्तूबर 2022

शुभ दीपावली

सूरज जब डूबने चला
तो गर्वोक्ति से बोला,
कौन करेगा मेरा काम
मेरे डूबने के बाद।

पिछली पंक्ति में खड़े
टिमटिमाते-सहमे से दिये ने कहा धीरे से,
बहुत निर्बल और दीन हूँ किन्तु 
प्रयास करूँगा लड़ने का अँधेरे से।

माटी के उस दिये ने सहस्त्र दियों को जला दिया
सबने मिल कर काली रात को उजिया किया,
जलता दिया जग को एक सन्देश दे गया
स्वयं जलना पड़ता है जब हो अंधेरा घना।

सूर्य उगने की प्रतीक्षा में न समय गवायें
क्यों न सब मिल रात का उत्सव मनायें,
अपने अंतस में भी इक दीपक जलायें
अमावस में तारों और जुगनुओं सा जगमगायें।

शुभ दीपावली सभी को...🙏🙏🙏

-वाणभट्ट

(कविवर रविन्द्र नाथ टैगोर की एक कविता से प्रेरित)

2 टिप्‍पणियां:

यूं ही लिख रहा हूँ...आपकी प्रतिक्रियाएं मिलें तो लिखने का मकसद मिल जाये...आपके शब्द हौसला देते हैं...विचारों से अवश्य अवगत कराएं...

 बिजुरिया अभी-अभी प्रकाशोत्सव का पर्व गुजरा है। पूरा का पूरा देश, प्रदेश, जिला, गली-मोहल्ला सब जगमगा रहा था। बड़ी-बड़ी लाइटें लगी थीं और छोटी-...