सोमवार, 27 सितंबर 2010

घाव करें गंभीर ...

घाव करें गंभीर .....

१. मज़हबी नारों में
इंसानियत की आवाज़ दब गई
नक्कारखाने में तूती की आवाज़
सुनी है कभी ?

२. मत पूछो ये सड़क शहर जाती है.
शहर की ओर भागता है सियार
जब
मौत आती है.

३. ज़बरन मुस्कुराते बच्चे,
बस्तों के बोझ से दबे बच्चे,
बचपन में ही हैं कितने बड़े बच्चे.

४. मैं बस एक आदमी हूँ,
आदमी से ही मिलता हूँ,
आदमियत पे मिटता हूँ.

- वाणभट्ट

1 टिप्पणी:

  1. बहुत सुंदर रचनाएँ। सियार झकझोरने वाली थी और बच्चे सोचने वाली।

    जवाब देंहटाएं

यूं ही लिख रहा हूँ...आपकी प्रतिक्रियाएं मिलें तो लिखने का मकसद मिल जाये...आपके शब्द हौसला देते हैं...विचारों से अवश्य अवगत कराएं...

नई वाली हिन्दी

मोटरसायकिल को साइड स्टैंड पर खड़ा करके वो न जाने कहां लपक लिया. पता नहीं क्या जल्दी पड़ी थी. वो स्टेशन तो था नहीं कि लगे उसे कोई ट्रेन पकडनी ...