शुक्रवार, 30 नवंबर 2012

देशभक्ति

देशभक्ति की ऐसी मिसालें अपने इतिहास में मिलतीं हैं कि हम खुद को महान समझने से रोक नहीं पाते। भाव कुछ ऐसा की हमारे बाप-दादा ने घी खाया था, हमारा हाँथ सूंघो। अपने अगल-बगल का हाल ये है की देशभक्त और देशभक्ति की बात परिहास का विषय बन गया है। और कुछ इच्छाधारी लोग जब चाहें इसे अपने शरीर  पर ओढ़ लें और जब चाहे आत्मा में घुसेड लें। ये नेता टाइप के जीव होते हैं और जो देश को हरवक्त ये एहसास दिलाते की वो न होते तो देश पता नहीं किस गर्त में डूब गया होता। साठ सालों में अन्य  देश कहाँ से कहाँ पहुँच गए और हम घोटालों की पर्त खोलने में लगे हैं। भला हो प्रिंट और चित्र मीडिया का, इसने इस देश में भगवान् का काम किया है। यानि ये मीडिया ही है जो सर्वत्र विद्यमान है, सब कुछ देख-सुन रहा है। कुछ भी देख सकता है, सुन सकता है।


गीता प्रेस की चोखी कहानियों में  एक कहानी पढ़ी थी, कि भगवान् सब जगह है सब कुछ देख रहा है। ऐसा एक पिता ने अपने बालक को बताया। कभी ऐसी स्थिति आई की घर में फांके की नौबत आ गयी। पिता पड़ोस के खेत में घुस कर कुछ अन्न का जुगाड़ करने लगा। अपने बच्चे को बाहर खड़ा कर दिया कि कोई देखे तो बता देना। थोड़ी देर बाद उसने पूछा बेटा कोई देख तो नहीं रहा है। बच्चे के जवाब से हम सब वाकिफ हैं। पिता ने चोरी करने का इरादा छोड़ दिया। बच्चे ने उसकी आँखे खोल दीं। सिर्फ महान बातें करने से कोई महान नहीं हो जाता। और किसी देश को महान बनाने के लिए उसके लोगों का आचरण और चरित्र की अहम् भूमिका है।


कुछ दिन पहले एक वक्ता को सुनने का सौभाग्य मिला। बात देशभक्ति की थी। 1948 में स्थापित होने के पहले इजरायल का अत्यंत संघर्षपूर्ण इतिहास रहा है। सैकड़ों साल के संघर्ष में यहूदी पूरी दुनिया में बिखर गए थे। उन्हें दरकार थी इस धरती पर जमीन के कुछ हिस्से की। कोई और देश उनकी इस इच्छा को कैसे मान लेता। लिहाज़ा उनके सामने एक दुश्वार जंग थी। वो दुनिया के विभिन्न कोनों में छिप के रहते। जब मिलते तो विदा के समय एक-दूसरे से कहते - फिर मिलेंगे दोस्त अपने इजरायल में। इस तरह पुश्तों तक उन्होंने उस इजरायल को जिंदा रक्खा जो धरती पर कहीं था ही नहीं।


एक यहूदी मित्र के बाबा की मृत्यु हो गयी थी। उसमें शरीक होने पहुंचे लोगों ने देखा कि जब अंतिम यात्रा के लिए शव को निकला जा रहा था। मित्र की दादी ने सोने की डिबिया से चांदी का पाउडर निकाल कर शव के नीचे बिछा दिया। कुछ अजीब सी रस्म थी ये किसी हिन्दुस्तानी के लिए। बाद में जब मित्र से पूछा कि दादी ने शरीर के नीचे क्या बिछाया था। सुन कर इजरायली दोस्त की आँखें नम हो गयीं। बोला हम यहूदियों की ये तमन्ना होती है कि हमारी मृत्य हमारी ज़मीं पर हो। वहां से विस्थापित होते समय हमारे पुरखे वहां की मिटटी अपने साथ ले आये थे। ये हमारे वतन की मिटटी है जो किसी इजरायली के शरीर के नीचे  डाली जाती है, मृत्य के समय।


वतन के प्रति इस प्रेम के बारे में सुन कर सभागार में उपस्थित हम भारतीयों ने खूब तालियाँ बजायीं, जोश में। बाहर निकलते समय मै सोच रहा था कि हम अपने देश से भागते हुए क्या ले जाते, अपने साथ। 


- वाणभट्ट              

10 टिप्‍पणियां:

  1. "किसी देश को महान बनाने के लिए उसके लोगों का आचरण और चरित्र की अहम् भूमिका है ... "हम अपने देश से भागते हुए क्या ले जाते, अपने साथ?"




    उत्तर देंहटाएं
  2. इजराईल जैसा जज्बा अगर भारतीयों में आ जाये तो फ़िर किसकी औकात जो हमें आँख दिखाये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सरजी, अंत में बहुत टेढ़ा सवाल पूछ लिया आपने।
    बहुत नाजुक समय पर पोस्ट आई है ये, संयुक्त राष्ट्र का ताजातरीन घटनाक्रम बहुत साफ़ संदेश देता है कि रेत में सिर गड़ाने से तूफ़ान नहीं रुकते और सिरों की गिनती के आधार पर होने वाले फ़ैसले दिलों और दिमागों को दरकिनार करते हुये भी हो सकते हैं।
    अपने वतन से इतना प्रेम करने वाले उन अनदेखे\अपरिचित दोस्तों के लिये ढेर सारी तालियां।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अद्भुत पोस्ट देश प्रेम कोई इनसे सीखे |बधाई भाई वाणभट्ट जी |

    उत्तर देंहटाएं
  5. Dada, deshbhakti to kaafi baad mein aati hai, yahan samasya ye hai hame choti choti cheezon ki parwaah nahi hai. anushasan naam ki cheez nahi hai. hum log kahin bhi paan kha ke thook dete hain. chalti car se kachra fenk dete hain aur fir bolte hain ki videsho mein dekho kitni safai hai. hum log jab videsh jaate hain to wahan ke saare niyam follow karte hain par ye kehne se nahi chookte ki bharat mein kitni gandgi hai. Asal baat to ye hai ki hame koi dictator chahiye jo apni khatiya khadi kar sake....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुभाष चन्द्र बोस ने अपनी किसी पुस्तक में कहा है की वर्षों से मुगलों और अंग्रेजों की गुलामी झेल कर भारत में आत्म स्वाभिमान मर सा गया है इसलिए स्वराज के बाद भारत को पांच साल की लिमिटेड डिक्टेटरशिप में रखना चाहिए। संभवतः उनका अभिप्राय अनुशासन और देशप्रेम विकसित करने के लिए रहा हो। कलाम साहब का एक मेल नेट पर काफी सर्कुलेट हुआ था कि हिन्दुस्तानी जैसा सिंगापूर में बिहेव करता है वैसा भारत में बिहेव करे तो भारत को सिंगापूर बनने में देर नहीं लगेगी। तुम्हारे कन्सर्न्स से मैं भी इत्तेफाक रखता हूँ।

      हटाएं
  6. प्रेरक प्रसंगों को साझा किया है आपने ... सच है की देश उसके लोगों से बनता है ... उनकी भावनाओं से बनता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. कई प्रसंग मन को छू गये खासतौर अ‍ंतिम पैरा ...
    इस सशक्‍त लेखन एवं प्रस्‍तुति के लिये आभार

    सादर

    उत्तर देंहटाएं

यूं ही लिख रहा हूँ...आपकी प्रतिक्रियाएं मिलें तो लिखने का मकसद मिल जाये...आपके शब्द हौसला देते हैं...विचारों से अवश्य अवगत कराएं...