गुरुवार, 26 मई 2011

चाहें...तो इसे ग़ज़ल कह लें...

बा-अदब, बा-मुलाहिजा, होशियार 
बन्दर के हाथों लग गयी तलवार

अपनी खातिर जिनको राजा चुना
शेर की खाल में निकला सियार

गुनाह रोकने का जिसपे था जिम्मा 
क़त्ल करके बन गया गुनाहगार

जनतंत्र पे गनतंत्र हावी हुआ
समय रहते, चुन तू भी हथियार

काली कमाई से भरे हैं पेट जो
कैंसर को कह रहे हल्का बुखार

चैनोअमन देने का करे जो वास्ता
ऐसे लोगों का कबतक करें हम ऐतबार

जनता करे फांकाकशी, उडाये मौज वो
उठ खड़े हो, गाँधी का मत कर इंतज़ार

- वाणभट्ट 

17 टिप्‍पणियां:

  1. bahut khoob aaj sab khal me chhupe siyar hai dhoort makkar aur moukaparst..saateek .

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज के हालात पर कटाक्ष करती सुन्दर ग़ज़ल| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  3. जनता करे फांकाकशी, उडाये मौज वो
    उठ खड़े हो, गाँधी का मत कर इंतज़ार
    kyun hai ye intzaar
    kya khud pe nahi raha aitbaar

    उत्तर देंहटाएं
  4. जनता करे फांकाकशी, उडाये मौज वो
    उठ खड़े हो, गाँधी का मत कर इंतज़ार

    -बस, अब बहुत हुआ....उठ खड़े होना ही होगा.....


    बहुत उम्दा रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बात तो सही है ...शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  6. जी हाँ सबको अपनी लड़ाई लड़नी होगी अब... अलग अलग भी और साथ में भी.. सुन्दर पेशकश..

    उत्तर देंहटाएं
  7. समसामयिक प्रस्तुति अब भी नहीं तो और कब?

    उत्तर देंहटाएं
  8. गुनाह रोकने का जिसपे था जिम्मा
    क़त्ल करके बन गया गुनाहगार
    हम तो इसे ग़ज़ल ही कहेंगे, जो दिल के साथ दिमाग में भे जगह बनाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत उम्दा रचना व सुंदर प्रस्तुति
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  10. गुनाह रोकने का जिसपे था जिम्मा
    क़त्ल करके बन गया गुनाहगार

    Badi prasangik panktiyan hain...

    उत्तर देंहटाएं
  11. काली कमाई से भरे हैं पेट जो
    कैंसर को कह रहे हल्का बुखार.

    सही कहा आपने । इन्हें समस्याएँ ऐसे ही देखने की आदत हो गई है ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सत्य को कहती बेहतरीन रचना..आज यही तो हो रहा है...लाजवाब

    उत्तर देंहटाएं
  13. जिसकी लाठी , उसी की भैस क्या यह लोकतंत्र है ?

    उत्तर देंहटाएं
  14. क्या कटाक्ष है बहुत सुंदर...

    उत्तर देंहटाएं
  15. प्रजा तंत्र पर लोक तंत्र हावी हुआ ,समय रहते चुन तू भी हथियार ।
    (बन राम देव ).सीधी सच्ची खरी खोटी खूब सुनाई अपनी बात ,क्या बात है बाण भट्ट साहब !

    उत्तर देंहटाएं
  16. प्रजा तंत्र पर लोक तंत्र हावी हुआ ,समय रहते चुन तू भी हथियार ।
    (बन राम देव ).सीधी सच्ची खरी खोटी खूब सुनाई अपनी बात ,क्या बात है बाण भट्ट साहब !

    उत्तर देंहटाएं

यूं ही लिख रहा हूँ...आपकी प्रतिक्रियाएं मिलें तो लिखने का मकसद मिल जाये...आपके शब्द हौसला देते हैं...विचारों से अवश्य अवगत कराएं...