मंगलवार, 30 अक्तूबर 2012

शिक्षा का उद्देश्य

उन दिनों ऐसा न था। सरकारी स्कूलों में पढना फक्र की बात थी। क्योंकि अनार कम थे बीमार ज्यादा। अब की तरह हर कोई पढ नहीं सकता था। स्कूल कम थे पढ़ने वाले ज्यादा। राजकीय विद्यालय में दाखिला एक बड़ा काम था। प्रवेश परीक्षा में सीटें सीमित थीं। छठवीं में प्रवेश होता था या नवीं में। हर कक्षा में अनुमन्य सीमा 40 छात्रों की होती थी पर वास्तव में 120 बच्चे कक्षा को गुलज़ार कर रहे होते थे। छठवीं में सीटें ज्यादा होतीं थी सो दाखिला कुछ आसन होता था पर नवीं  में दाखिला मानो किसी इंजीनियरिंग कालेज का दाखिला हो। आठवीं की गर्मी की छुट्टियाँ इसी क्रम में शहीद हो गयीं थीं। पर पूरे इलाहाबाद में दूसरा कोई ऐसा कालेज न था जिसमें पढ़ने में पिता जी को लेश मात्र भी गर्व होता। चूँकि आगे पढना ज़रूरी था और सरकारी स्कूल के अलावा किसी और स्कूल में पढना या न पढना बराबर माना जाता था। इसलिए भाइयों अपनी छुट्टियाँ कुर्बान करनीं पड़ीं। 

पिता जी शायद नर्सरी में प्रवेश करने गए हों तो गए हों उसके बाद तो हर जगह खुद अपने अभिभावक बन कर हम ही गए। जी आई सी, इलाहाबाद में प्रवेश करने की ख़ुशी पहले दिन ही काफूर हो गयी जब कक्षा में सौ-सवा सौ बच्चे बैठे मिले। हम छोटे स्कूल से गए थे जहाँ प्रार्थना ग्राउंड पर सारा स्कूल एक साथ खड़ा हो जाता था। ज्यादातर टीचर हर छात्र-छात्रा को नाम से जानतीं थीं। प्रधानाचार्या से लेकर दाई तक सभी महिलाएं थीं। बसों के ड्राइवर या चपरासी ही बस पुरुष थे।  सख्त अनुशासन हमारी अध्यापिकाओं का शगल था। और ये शौक सिर्फ स्कूल या क्लास की चारदीवारियों तक सीमित नहीं था। मैनर-एटिकेट्स पर भी लेक्चर दिए जाते थे। क्या मजाल की हम स्कूल के बाहर चाट या चूरन या पांच पैसे की सेक्रिन वाली आइसक्रीम खाते दिख जायें। एक लेक्चर पक्का समझिये। एक बार कुछ लड़कों को सिर्फ इसलिए सजा मिल गयी कि उन्होंने सिर्फ हँसी के लिए पीने के पानी के लिए लिखे स्लोगन को कुछ तोड़-मरोड़ दिया था। एक छात्र ने मजाक में फ़रमाया 'पानी बहाओ, पियो मत', बाकि छात्र हँस दिए। किसी अध्यापिका ने सुन लिया। फिर तो उस ग्रुप की जो क्लास ली गयी वो वाकया आज तक जेहन में है। तभी से मुझे लगता है कि महिलाएं जितनीं कानून व्यवस्था बना के रखतीं हैं उतना पुरुषों के बस की बात नहीं है। पुरुष वैसे भी कानून तोड़ कर ज्यादा खुश होते हैं।

जी आई सी में राम राज्य था। कितने बच्चे उपस्थित हैं कितने नहीं जानने के लिए प्राचार्य महोदय के पास न कोई जिन्न था न कोई चिराग। अगर सारे बच्चे किसी दिन क्लास करने के मूड में आ भी गए तो समस्या थी की बैठें कहाँ। और किसी तरह खिड़की-दरवाज़ों पर चढ़ के बैठ भी गए तो उन्हें कंट्रोल करके विषय के बारे में पढ़ा पाना असंभव तो नहीं था, पर कठिन ज़रूर था। जैसे ही अध्यापक महोदय बोर्ड की ओर मुड़ते कक्षा जीवंत हो जाती। यहाँ सारे पुरुष अध्यापक थे और उनका अनुशासन, जैसा मैंने पहले ही कहा है, हमारी आठवीं की अध्यापिकाओं जितना नहीं था। विज्ञान और गणित की कक्षाओं में उपस्थिति फुल रहती थी। हिंदी, अंग्रेजी और वैकल्पिक विषयों में छात्र नदारद रहते। जैसे ही हिंदी या इंग्लिश के अध्यापक कक्षा में प्रवेश करते, बच्चे खिड़कियों से कूद-काद कर भाग लेते। गलती से कभी क्लास में ज्यादा बच्चे होते तो हमारे हिंदी के प्राध्यापक पूछते बेटा तुम लोग भाग नहीं पाए या वाकई पढ़ने की इच्छा जागृत हो गयी है। इस माहौल के बाद भी पढ़ने वाले पढ़ ही लेते। 120 बच्चों में कोई बोर्ड टॉप भी करता कोई आई आई टी निकलता। श्रेय निश्चय ही हमारे स्कूल  और अध्यापकों को मिलता। इसलिए हर अभिभावक, जो कान्वेंट की फ़ीस नहीं अफोर्ड कर सकता था, का सपना होता कि मेरा बच्चा जी आई सी में पढ़े।  

चूँकि मै अनुशासित स्कूल का छात्र था इसलिए कक्षा बंक करने का विचार मेरे मन में कभी नहीं आया। मै सभी विषयों की क्लास अटेंड करता। विज्ञानं और गणित के टीचर तो सिर्फ टॉपर और पढ़ाकू किस्म के छात्रों को जानते थे जो स्टाफरूम में उनसे मिल कर उनसे अपनी समस्याओं पर डिस्कशन करते थे। मेरी उपस्थिति सभी विषयों की कक्षाओं में अनिवार्य थी। टॉपर तो मै नहीं था पर सभी विषयों में मेरा दखल टॉपरों से कुछ ही कम था। हिंदी से लेकर मैथ तक सभी विषयों में मै लगभग बराबर अंक प्राप्त करता। हिंदी और अंग्रेजी के अध्यापक मेरी निष्ठा से ज्यादा प्रभावित थे और विशेष स्नेह दिया करते थे। अंग्रेजी के अध्यापक थे नूर साहब। बेहद चलते-पुर्जे। अनेक सरकारी इम्तहानों की कॉपियां जांच कर वो खासी आय अर्जित कर लिया करते। अपने घर पर 15-20 बच्चों को बुला लेते। उनकी पत्नी  मेज पर बैठ जातीं और जोर-जोर से आन्सर बोलतीं जातीं, पहले का ए, दूसरे का सी...। और चंद घंटों में सारी कापियां जँच जातीं। सिर्फ चाय-नाश्ते की ख्वाहिश में हम सभी उनके पेपर जांचने के लिए श्रमदान करने को उतावले रहते। नूर साहब की आँखों की शोभा एक ऐसा चश्मा बढाता था जिसमें से उनकी आँखें किधर देख रहीं हैं ये जान पाना कठिन था। यहाँ ये बताना ज़रूरी है की वो सनग्लास नहीं था, पावर इतना ज्यादा था कि  उसके ग्लास में गोले के अन्दर गोले और गोले के अन्दर गोले और गोले के अन्दर गोले पड़ा करते थे। कितने गोले पता नहीं। वो बच्चों से ही किताब पढवाते और एक-एक लाइन की व्याख्या करते। जो बच्चा फँस जाता वो और नूर साहब ही उस पढाई का लुफ्त उठा पाते। बाकी मटरगश्ती किया करते।  

मेरी स्थिति वही थी जैसे जेल से छूटे कैदी की। अत्यधिक अनुशासन से अनुशासनविहीनता की स्थिति। और अब मुझे इसका आनंद भी आने लगा था। नूर साहब की क्लास इसके लिए सर्वथा उपयुक्त हुआ करती थी। अमूमन क्लास टॉपर मेरे ठीक आगे बैठता था लेक्चर थियेटर की पहली पंक्ति में। हमारी अच्छी मित्रता भी थी। इसलिए किसी भी बोर से बोर क्लास में हम आनन्द के कुछ पल खोज ही लेते थे। उस दिन कुछ ऐसा ही हुआ। उसकी कुर्सी के पटरे की कील निकल गयी थी। और वो जरा भी हिलता-डुलता पटरा सरक जाता। वो दोस्त ही क्या जो फटे में टांग न अडाये। बाकि क्लासें तो ठीक-ठाक गुजर गयीं। नूर साहब की क्लास का मै इंतज़ार कर रहा था। आते ही उन्होंने 'अ प्ले बाई टैगोर' के पाठ के लिए एक लडके को चुन लिया और सराबोर हो कर उसकी पंक्तियों को एक्सप्लेन करने लगे। मैंने टॉपर के पटरे को लात से हिलाना शुरू कर दिया। उसे भी मज़ा आने लगा। उसने मेरा पैर पकड़ लिया। मै टांग छुड़ाने के प्रयास में लग गया। इस पूरे कार्यक्रम हम इतना डूब गए की देश-काल-सीमा का ज्ञान ही नहीं रहा। मास्टर जी पहले से ही टैगोर की गाथा में आकंठ डूबे हुए थे। 

मैंने पैर को जोर से खींचा, टॉपर ने उसे आगे खींचा। और ये क्या मेरा पैर पीछे आ गया। पर देखता हूँ कि मेरा जूता एक परफेक्ट प्रोजेक्टाइल लेता हुआ आगे जा रहा है। मैथ के प्राचार्य जिस प्रोजेक्टाइल को थ्योरी में समझाया था और जो मेरी समझ में कम आया था, इस दुर्घटना से क्लियर हो गया। 45 डिग्री पर गोला दागो तो सबसे दूर जाता है। नूर साहब के कान को मिस करता हुआ वो जूता मेज पर विराजमान हो गया। तन्मयता से पढ़ा रहे नूर साहब को पहले तो  कुछ समझ नहीं आया। पर मेज पर गिरी अजीबोगरीब आकृति ने उनका ध्यान खींच  ही लिया। उन्होंने झुक कर उस बला का मुआयना करना शुरू कर दिया। खुशबु से या आकार से उन्हें शीघ्र समझ आ गया की ये जूता है और उन्हें लगा होगा किसी ने उसे फ़ेंक कर मारा है। पूरी क्लास सन्नाटे में आ गयी। मै भी और टॉपर भी। कोई और होता तो गुस्से से आग-बबूला हो गया होता पर नूर साहब का सब्र काबिलेतारीफ था। उन्हें अपनी लिमिटेशन भी मालूम थी। उन्होंने क्लास की ओर निहारा। उन्हें दिखाई तो देने से रहा। इसलिए मै कुछ निश्चिन्त था। पर सभी जानते हैं कि टॉपर लोग कैसे होते हैं। वो घबरा गया। "सर ये मेरा नहीं है।" " तो फिर किसका है।" नूर साहब ने अपनी दूर-दृष्टि का उपयोग किया। "सर इसका।" नूर साहब का चेहरा गुस्से में लाल हो गया। लगा कच्चा चबा जायेंगे। टॉपर की उंगली मेरी ओर इशारा करने ही वाली थी कि मै मेज के नीचे घुस गया। नूर साहब ने मेरे पीछे वाले छात्र की पर अपनी क्रोधित निगाह डाली।  मेरा पकड़ा जाना तय था। मरता क्या न करता जूता छोड़ कर मै खिड़की की ओर भागा। जब तक नूर साहब समझ पाते मै ये-जा, वो-जा।  

अगले दिन मै उनकी क्लास में वैसे ही बैठा था जैसे की कुछ हुआ ही न हो। उन दोस्तों का मै अभी भी शुक्रगुज़ार हूँ जिन्होंने मेरा नाम अपनी जुबान से नहीं लिया। आज मै नूर साहब से उस कृत्य के लिए क्षमा की रिक्वेस्ट भी प्रेषित कर रहा हूँ। 

प्रोजेक्टाइल का जो फंडा उस दिन मिला, उसके बाद मैंने कक्षा को कभी भी अपने अध्यन से टकराने नहीं दिया।

वैसे भी शिक्षा मनुष्य की प्रवृत्ति को मुक्त करने के लिए ही तो है।

- वाणभट्ट