गुरुवार, 21 अप्रैल 2011

आंसू

इतने बुरे भी नहीं आंसू
कि
उन्हें निकाल बाहर फ़ेंक दें.
अन्दर रहे
तो दर्द देंगे.
पर
बाहर आ गए
तो देंगे
दर्द 
ज़माने भर का. 

- वाणभट्ट 


6 टिप्‍पणियां:

  1. वाकई, बाहर आकर ज्यादा दर्द देंगे ये आंसू.

    उत्तर देंहटाएं
  2. aansoon ko bheetar rakh kar aur doosare dard ke raste band rakhate hai..sunder..

    उत्तर देंहटाएं
  3. पर
    बाहर आ गए
    तो देंगे
    दर्द
    ज़माने भर का.


    बहुत बढ़िया ..... कम शब्दों में गहरी बात

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेबसी के आलम का
    मुख़्तसर अलफ़ाज़ में
    सटीक इज़हार ..... !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. राम-राम जी,
    जब दर्द नहीं हो सीने में, तब खाख मजा है जीने में,
    जब आंसू नहीं हो आँखों में, तब पता कैसे चले जज्बातों का?

    उत्तर देंहटाएं

यूं ही लिख रहा हूँ...आपकी प्रतिक्रियाएं मिलें तो लिखने का मकसद मिल जाये...आपके शब्द हौसला देते हैं...विचारों से अवश्य अवगत कराएं...