सोमवार, 7 फ़रवरी 2011

घोड़े और गदहे

होने और लगने में है अंतर इतना
घोड़े और गदहे में है अंतर जितना
घोड़ा, घोड़ा होता है, जबकि गधा घोडा लगता है

भगवन सारे गुण एक को छांट के देते नहीं
ईमानदारी का चर्चा कार आड़ में घूस लेते नहीं
वो बनाते नहीं किसी को सर्व-गुण-संपन्न
किसी को देते हैं गुण और
किसी और को कर देते हैं संपन्न
गुण हमको दे दिया बांचने के लिए
संपन्न उनको कर दिया गुण का प्रसाद चाटने के लिए
चाटते-चाटते उन्होंने चर डाला
पूरा का पूरा देश
फिर भी खाली है उनका पेट
स्विस बैंकों में उनके हैं खाते
लिस्ट जाहिर हो गयी
पर सत्ता वाले नहीं हैं शरमाते
कहते हैं उन्हें भी मालूम है सब नाम
पर वो नहीं चाहते किसी को करना बदनाम
उन्हें कुछ और समय चाहिए
किसी और गुमनाम बैंक का पता चाहिए
ताकि पैसा जल्दी से जल्दी वहां ट्रान्सफर हो जाये
और जांच में किसी पर कोई आंच न आये
आखिर ये भी तो अपने बिरादर हैं
विदेशों में संजोये देश कि धरोहर हैं
जब देशी लोग तो देश बेच रहे थे
तब इनके जेहन में ये ख्याल आये
देश का पैसा आड़े वक्त में देश के काम आये
इसीलिए इन भाइयों ने ये काम किया
देश का पैसा विदेशी बैंकों में अपने नाम किया

इस देश का भी अजब दस्तूर है
पैसेवाला धन के नशे में चूर है
कोई नहीं पूछता पैसा कहाँ से आया
कोई नहीं पूछता पैसा कहाँ गया
जो पैसा देश के निर्माण में था लगना
वो कुछ घरों में ही रह गया
डर था कि कहीं किसी को भनक न लग जाए
और पता नहीं कब देश छोड़ना पड़ जाये
घोड़े के रूप में गधे बहुत स्मार्ट थे
पूरे देश को उल्लू बन माल ले उड़े

भला हो बाबा रामदेव का
उनके जन जागरण का
कि सरकार अब बात करने लगी है
पैसे लौटने कि उम्मीद बंधने लगी है
पर क्या पैसा लौट पायेगा
और देश के विकास में लगेगा
या फिर बचे खुचे दबे कुचले लोगों के उत्थान का कारण बनेगा
कितनों कि तमन्नाएं मचलने लगी हैं
देश के विकास के लिए भुजाएं फड़कने लगीं हैं
पैसा गर लौटा तो तो हमारे भी दरिदर दूर होंगे
गधों कि बिसात छोड़ हम भी घोड़ों में रहेंगे
भले ही ज़रुरत से ज्यादा पैसा गद्दों या दीवारों में रहेगा
पर देश का पैसा कम से कम देश में तो रहेगा

अबे गधों अब तो घोड़े बन जाओ
सुनहरा मौका है मत गवाओं
देश के नेता, पूंजीपति और अफसरों से कुछ सीखो
वो तो लूट रहे हैं तुम भी कुछ लूटो
वो दिन दूर नहीं जब स्विस बैंक में तुम्हारा भी अकाउंट होगा
और तहलका की साईट पर तुम्हारा भी नाम होगा

आप मुस्कराए लगता है कविता समझ में आ गई
अलबत्ता तो ये कविता लगती नहीं
क्योंकि जो होती है वो लगती नहीं.

- वाणभट्ट


9 टिप्‍पणियां:

  1. .आप मुस्कराए लगता है कविता समझ में आ गई


    अरे, आपने कैसे जाना कि मैं मुस्कुरा पड़ा हूँ ?
    हम गधे को स्विसबैंक का भरोसा दिलाने का शुक्रिया !

    उत्तर देंहटाएं
  2. घोड़े के रूप में गधे बहुत स्मार्ट थे
    पूरे देश को उल्लू बन माल ले उड़े
    बहुत सुन्दर अभिब्यक्ति| धन्यवाद|

    बसंत पंचमी की शुभकामनाएँ|

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय,

    आज हम जिन हालातों में जी रहे हैं, उनमें किसी भी जनहित या राष्ट्रहित या मानव उत्थान से जुड़े मुद्दे पर या मानवीय संवेदना तथा सरोकारों के बारे में सार्वजनिक मंच पर लिखना, बात करना या सामग्री प्रस्तुत या प्रकाशित करना ही अपने आप में बड़ा और उल्लेखनीय कार्य है|

    ऐसे में हर संवेदनशील व्यक्ति का अनिवार्य दायित्व बनता है कि नेक कार्यों और नेक लोगों को सहमर्थन एवं प्रोत्साहन दिया जाये|

    आशा है कि आप उत्तरोत्तर अपने सकारात्मक प्रयास जारी रहेंगे|

    शुभकामनाओं सहित!

    डॉ. पुरुषोत्तम मीणा ‘निरंकुश’
    सम्पादक (जयपुर से प्रकाशित हिन्दी पाक्षिक समाचार-पत्र ‘प्रेसपालिका’) एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष-भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान (बास)
    (देश के सत्रह राज्यों में सेवारत और 1994 से दिल्ली से पंजीबद्ध राष्ट्रीय संगठन, जिसमें 4650 से अधिक आजीवन कार्यकर्ता सेवारत हैं)
    फोन : 0141-2222225 (सायं सात से आठ बजे के बीच)
    मोबाइल : 098285-02666

    उत्तर देंहटाएं
  4. हिन्दी ब्लाग जगत में आपका स्वागत है, कामना है कि आप इस क्षेत्र में सर्वोच्च बुलन्दियों तक पहुंचें । आप हिन्दी के दूसरे ब्लाग्स भी देखें और अच्छा लगने पर उन्हें फालो भी करें । आप जितने अधिक ब्लाग्स को फालो करेंगे आपके अपने ब्लाग्स पर भी फालोअर्स की संख्या बढती जा सकेगी । प्राथमिक तौर पर मैं आपको मेरे ब्लाग 'नजरिया' की लिंक नीचे दे रहा हूँ आप इसका अवलोकन करें और इसे फालो भी करें । आपको निश्चित रुप से अच्छे परिणाम मिलेंगे । धन्यवाद सहित...
    http://najariya.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस सुंदर से चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हिन्दी ब्लाग जगत में आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. " भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" की तरफ से आप को तथा आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामना. यहाँ भी आयें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो फालोवर अवश्य बने .साथ ही अपने सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ . हमारा पता है ... www.upkhabar.in

    उत्तर देंहटाएं

यूं ही लिख रहा हूँ...आपकी प्रतिक्रियाएं मिलें तो लिखने का मकसद मिल जाये...आपके शब्द हौसला देते हैं...विचारों से अवश्य अवगत कराएं...